March 6, 2022

How to analyse Open Interest For Trading | वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट क्या होता है ?

How to analyse Open Interest For Trading | वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट क्या होता है ?

Volume and open interest which is Important key for Trading
वॉल्यूम और ओपन इंटरेस्ट ट्रेडिंग के लिए क्या महत्वपूर्ण है

OPEN INTEREST AND SHORT SELLING

 

Volume (वॉल्यूम) – जब भी स्टॉक मार्केट में स्टॉक ,ऑप्शन या फ्यूचर में ट्रेडिंग होती है , मतलब स्टॉक या ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट या फ्यूचर कॉन्ट्रेक्ट को ख़रीदा और बेचा जाता है तब वॉल्यूम बनता है , जैसे जैसे ट्रेडिंग बढ़ता है वैसे वॉल्यूम भी बढ़ता जाता है | Volume कब बढ़ता है – जब buyer या Seller ट्रेडिंग करते है , तब तब वॉल्यूम बढ़ता , दिन भर जैसे ट्रेड होते रहेंगे वैसे वॉल्यूम बढ़ता रहेगा

Open interest (ओपन इंटरेस्ट) – ओपन इंटरेस्ट वॉल्यूम से अलग होता है ,कोई भी ट्रेड पूरा होने के लिए आपको options and futures contracts पहले खरदीना पड़ता है , और मुनाफा या घाटा होने पर आपको उसे बेचना पड़ता है, जब ख़रीद कर उसेही बेचते हो तो एक ट्रेड पूरा होता है |
लेकिन आपने options या futures contracts ख़रीदा है और आपने उसे अभी बेचा नहीं है मतलब आपका ट्रेड अभी ओपन है ,आपके जैसे बहोत लोग होंगे जिन्होंने अभी ख़रीदा है मगर उसे बेचा नहीं है , जितने लोगोने बस खरीदा है मतलब उनकी पोजीशन अभी ओपन है ,इसीको ही ओपन इंटरेस्ट (Open Interest ) कहते है |ओपन इंटरेस्ट” उन कॉन्ट्रेक्ट या ट्रेड की संख्या को दर्शाता है जो सक्रिय (active ) हैं |

 

ओपन इंटरेस्ट (Open Interest ) के बारेमे अधिक जानकारी 

In Derivative Market Buyer of options aur  futures contracts must have to Sell contracts till expiry  and options aur  futures contracts seller must have to buy contracts till expiry at the end of month on last day of expiry all open intersr will be Zero .

डेरीवेटिव मार्केट में ऑप्शन या फ्यूचर कॉन्ट्रेक्ट खरीदने वालो को बेचना पड़ता है और बेचने वालो को खरीदना पड़ता है , महीने के आखरी गुरुवार सब कॉन्ट्रैक्ट एक्सपायर हो जाते है और ओपन इंटरेस्ट शुन्य हो जाता है | और अगले महीने के कॉन्ट्रेक्ट में खरेदी और बिकवाली शुरू होती है | डेरीवेटिव मार्केट में वॉल्यूम से कही ज्यादा ओपन इंटरेस्ट का महत्व होता है |

 

How to calculate open interest in future and options contracts ? 

मार्किट में जब treding hours में कॉन्ट्रैक्ट की खरेदी ,बिकवाली होती है , उसका असर ओपन इंटरेस्ट पर पड़ता है , और इसकी जानकारी हमें मार्केट बंद होने के बाद जो NSE से डाटा मिलता है उससे पता चलता है की ओपन इंटरेस्ट कहा ज्यादा और कहा काम हुवा है |

यह आपको मार्किट बंद होने के बाद कुछ घंटो के बाद अपडेट की जाती है उसे आप निचे दी गयी लिंक से रोज देख सकते है और अपना अनुमान लगा सकते है |

  Historical Contract-wise Price Volume Data-https://www1.nseindia.com/products/content/derivatives/equities/historical_fo.htm

How to trade with Open Interst  | Find Bull/Bear Signals with open interest | Open Interest Trading Strategy | Open Interest Analysis For Futures and Option contract Trading 

स्टॉक / कॉन्ट्रैक्ट की कीमत Price

Open Interest-ओपन इंटरेस्ट

Signal / संकेत

Increase / बढ़ रही है 

बढ़ रहा है

Strong Buy /खरीदें

Increase / बढ़ रही है 

कम हो रहा है

जो ट्रेंड चल रहा था वह

बदल रहा है ,स्टॉक या

इंडेक्स निचे आने की

संभावना है |

Decrease / कम हो रही है

बढ़ रहा है

Strong Sell /  बेचे 

Decrease / कम हो रही है

कम हो रहा है

ट्रेंड बेहतर हो रहा

भाव बढ़ सकते है 

 

An increase in open interest along with an increase in contract Price -ओपन इंटरेस्ट और कॉन्ट्रेक्ट प्राइस दोनों में वृद्धि  (Bull Signals , Long Position ,Confirm an upward trend  )

  • जब stock या फिर Index Contract में ओपन इंटरेस्ट और कॉन्ट्रेक्ट प्राइस दोनों में वृद्धि हो रही है इसका मतलब stock या फिर Index Contract खरीदारी हो रही है और खरीदनेवाले ज्यादा भाव से खरीदने के लिए तैयार है इसलिए भाव में बढोतरी हो रही है ,उन्हें लग रहा के भविष्य में Contract की वैल्यू और बढ़ने वाली है |
  • जब stock या फिर Index Contract ऐसा दिखाई देता है तब उस कॉन्ट्रेक्ट की कीमत भविष्य में और बढ़ सकती है |
  • अगर ओपन इंटरेस्ट बढ़ रहा है और future या options contract की किमंत भी बढ़ रही है , तो इससे खरीदने के संकेत मिलते है|

 

Decrease in open interest and  stable contract Price -ओपन इंटरेस्ट कम हो रहा है और कॉन्ट्रेक्ट प्राइस

स्थिर है | (profit Booking ,wait for Bull Signals  )

  • जब stock या फिर Index Contract में ओपन इंटरेस्ट कम हो रहा है और Contract की कीमत ज्यादा है
    तो जिन्होंने Contract ख़रीदे है वह अभी अपने position या ट्रेड को पूरा कर रहे है मतलब position स्क्वायर ऑफ कर रहे है ,या आप बोल सकते हो की प्रॉफिट बुक कर रहे है, ऐसा संकेत माना जाता है |
  • ऐसे समय में बढ़ी हुई कीमत निचे आ सकती है , और कभी कभी ऐसे समय कीमत जल्दी निचे आने की भी संभावना होती है |
  • अगर नए खरीदार आते है तो कीमत और बढ़ सकती है , नए खरीदार को चालू कीमत ज्यादा लगती है तो वो उसे थोड़ा कम होने के बाद खरीद सकते है और फिर ओपन इंटरेस्ट बढ़ सकता है|
  • स्टॉक या इंडेक्स को वापस अपने सपोर्ट पर आनेकी प्रतीक्षा करें

An increase in open interest Decrease in  Price – ज्यादा ओपन इंटरेस्ट और कम कीमत – (short Selling)

  • ज्यादा ओपन इंटरेस्ट और कम कीमत ऐसे समय में बिक्री ज्यादा हो रही है , या शार्ट सेलिंग ज्यादा हो रही है तभी कॉन्ट्रैक्ट के भाव निचे की तरफ आ रहे है और ओपन इंटरेस्ट बढ़ रहा है ,
  • इसे ज्यादा सप्लाई और कम डिमांड की सिचुएशन भी समज सकते है |
  • ऐसे हालत में प्राइस और कम हो सकती है , ओपन इंटरेस्ट बढ़ रहा है लेकिन,शार्ट सेलिंग के कारन ओपन इंटरेस्ट बढ़ रहा है
  • यह स्टॉक या इंडेक्स का डाउन ट्रेन्ड शुरू होने के संकेत हो सकते है |

 

 An increase or decrease in prices while open interest remains flat or declining – कम ओपन इंटरेस्ट  और कम कीमत – ( short Covering , May indicate trend reversal )

 

  • ऐसे समय stock या contract Price शार्ट सेलिंग की वजह से अच्छीखासी निचे आ चुकी होती है , और कम कीमत पर अगर बेचने वाले बेचने के लिए  तैयार नहीं है ऐसा समझ में आता है |
  • अब जिन्होंने शार्ट सेलिंग किया है , वह ट्रेडर प्रॉफिट बुकिंग करना चालू कर सकते है , जिससे ओपन इंटरेस्ट कम होगा मगर कीमतों में सुधार दिख सकता है |
  • इसके बाद स्टॉक या इंडेक्स की कम कीमत के कारन खरीदने वालो की आने की संभावना ज्यादा होती है , और वह आते है तो ट्रेंड में बदलाव भी आता है |

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Option Trading

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *