February 26, 2022

Option Contract Types | Option Contract Basics India 2022

Option Contract Types | Option Contract Basics India 2022

  • F&O (Futures and Options) क्या होता है ? यह हमने पिछले पोस्ट में देखा है |

 

Options Trading किस segment में कर सकते है ?

  • Stock Option जो (F&O) में शामिल है
  • Nifty 50 index ,
  •  BankNifty Index

 

nifty option segment for trading

 

Important Terms in Option Contract 

अब हम Options के बारेमे अधिक जानकारी लेंगे जो आगे चलके आपको ऑप्शन ट्रेडिंग (Options Trading) के लिए काम आएगी |हम Nifty Options  को विस्तार से देखेंगे |

  • Index option contract इस प्रकार में  option contract का आधार (Base) index की Value होती है , जैसे की आज Nifty 50 इंडेक्स आज 16700 है, Nifty option को इसी Value के आधार से option contract  की कीमत या प्रिमियम बनता है |
  • निफ़्टी इंडेक्स जैसे कम ज्यादा होता है ,उस हिसाब से Options Premium में परिवर्तन (Change) होता है |
  • अगर निफ़्टी बढ़ता है तो CALL OPTION बढ़ता है PUT OPTION का भाव कम होता है |
    अगर निफ़्टी इंडेक्स कम होता है तो PUT OPTION बढ़ता है और CALL OPTION का भाव कम होता है |
  • Strike Price – स्ट्राइक प्राइस भी index की Value के आधार से बनते है , निफ़्टी ऑप्शन में दो स्ट्राइक प्राइस के बीचमे 50 point का फरक होता |और बैंक निफ़्टी में दो स्ट्राइक प्राइस में 100 points का डिफरन्स होता है |
  • लॉट साइज (LOT SIZE)
    डेरीवेटिव मार्केट में एक शेयर का व्यवहार नहीं होता है , यहाँ उसी स्टॉक के अनेक शेयर को मिलकर एक कॉन्ट्रैक्ट बनता है और उस कॉन्ट्रैक्ट को मार्केट में ट्रेड किया जाता है | कॉन्ट्रैक्ट में शेयर्स की संख्या एक्सचेंज / SEBI नियम के अनुसार निर्धारित करता है | उसे लॉट साइज कहते है | Nifty one Lot Size – 50  and BankNifty one Lot Size – 25

 OPTION CONTRACT TYPES – ऑप्शन के प्रकार

IN THE MONEY | AT THE MONEY | OUT OF MONEY |ITM ATM OTM IN HINDI 

स्टॉक या इंडेक्स की मार्केट प्राइस और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की स्ट्राइक प्राइस ( भविष्य में अपेक्षित प्राइस ) के अनुसार ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट के तीन प्रकार पड़ते है |

  • IN THE MONEY – ITM – इन द मनी
  • AT THE MONEY – ATM – एट द मनी
  • OUT OF MONEY – OTM – आउट ऑफ़ मनी

 

ITM,ATM,OTM in Details | आईटीएम ,एटीएम ,ओटीएम को विस्तार से समजते है |

स्टॉक या इंडेक्स की कल की क्लोजिंग प्राइस 16700 ( उदाहरण के लिए हम Nifty 50 इंडेक्स की वैल्यू लेते है )

AT THE MONEY – ATM – एट द मनी क्या होता है ?

At the money – ATM इस प्रकार में स्टॉक या इंडेक्स की प्राइस और स्ट्राइक प्राइस दोनों एक ही होते है , जैसे अगर निफ़्टी अभी 16700 पे है तो ,16700 call भी ATM होता है और 16700 का Put भी ATM होता है|

ATM CALL –  16700 CALL

ATM PUT   – 16700 PUT

Condition -1

अगर निफ़्टी 16700 से आगे जाके 16755 तक जाता है तो क्या होगा ? 
16700 का call जो  ATM था  वो अभी  ITM – इन द मनी हो जायेगा |
16700 का Put – ATM था वो अभी  OTM – आउट ऑफ़ मनी हो जायेगा |

Condition -2

अगर निफ़्टी 16700 से निचे की तरफ जाता है 16645 की तरफ जाता है तो क्या होगा ?

16700 का call जो  ATM था  वो अभी OTM – आउट ऑफ़ मनी हो जायेगा |

16700 का Put – ATM था वो अभी  ITM – इन द मनी हो जायेगा |

IN THE MONEY – ITM – इन द मनी क्या होता है ?

इंडेक्स की कल की क्लोजिंग प्राइस अगर 16700 है |

ITM CALL –  16650  CALL

ITM PUT   – 16750  PUT

Condition -1

अगर निफ़्टी 16700 से आगे जाके 16755 तक जाता है तो क्या होगा ? 

ITM CALL –  16650  CALL  वह आईटीएम हे रहेगा |

ITM PUT   – 16750  PUT  वह एटीएम हो जायेगा |

Condition -2

अगर निफ़्टी 16700 से निचे की तरफ जाता है 16645 की तरफ जाता है तो क्या होगा ?

ITM CALL –  16650  CALL  वह एटीएम हो जायेगा |

ITM PUT   – 16750  PUT  वह आईटीएम हे रहेगा |

 

OUT OF  MONEY – ITM – इन द मनी क्या होता है ?

अगर NIFTY इंडेक्स की कल की क्लोजिंग प्राइस  16700 है |

OTM CALL –  16750  CALL

OTM PUT –  16650  PUT

Condition -1

अगर निफ़्टी 16700 से आगे जाके 16755 तक जाता है तो क्या होगा ? 

OTM CALL –  16750  CALL  वह (ATM)एटीएम हो जायेगा |

OTM PUT –  16650  PUT वह OTM हे रहेगा |

Condition -2

अगर निफ़्टी 16700 से निचे की तरफ जाता है 16645 की तरफ जाता है तो क्या होगा ?

OTM CALL –  16750  CALL  वह OTM हे रहेगा |

OTM PUT –  16650  CALL  वह (ATM)एटीएम हो जायेगा |

 

What is Option Greeks & its Effect on Option Trading 

मार्केट की अलग अलग परिस्थितिया, घटना इनका स्टॉक /इंडेक्स की प्राइस पर प्रभाव पड़ता है और उसके वजह से option के Primium पर भी असर होता है | Option contract Greeks ये फार्मूला से बनते है ,जिसका उपयोग Option contract Price पर पड़ने वाले प्रभाव (effect ) को समझना है , और उसका उपयोग आप Option Trading में सही कॉन्ट्रेक्ट और सही कीमत चुनने के लिए कर सकते है |

  • Delta – डेल्टा – Δ –  Important for trading
  • Gamma – गामा – γ
  • Vega  –   वेगा
  • Theta  –  थीटा   – θ  – Important for trading
  • Rho  – रो –  ρ

What is Delta ?  डेल्टा क्या होता है ?

  • स्टॉक /इंडेक्स की प्राइस या वैल्यू को Underlying Asset कहते है जिससे ऑप्शन का प्रीमियम बनता है | जब stock /Index की Value बदलती है तो उसका सीधा असर ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट के primium पर पड़ता है , उसको डेल्टा की मदत से समजते है इसको हम उदहारण से समझते है |
  • जब stock /Index की कीमत 1 पॉइंट से बढती है उस टाइम ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की वैल्यू 0.5 बढ़ती है ऐसे समय उस ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट का डेल्टा 50 % होता है , मतलब stock /Index 10 पॉइंट से बढ़ेगा तब ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट 5 पॉइंट् ही बढ़ेगा |
  • निफ़्टी अभी 17000 और अपने 17000 CALL को ख़रीदा है उसका प्रीमियम 70 RS है   अगर निफ़्टी 17050 तक जाता है उसी समय आपका 17000 CALL का प्रीमियम 85 RS होगा |

एक्सपायरी होने पर जो भी call या put ITM होते है उनका प्राइस 100 % पास होता है , और जो call या put OTM होते है वह 0 हो जाते है|

  ITM, ATM, OTM and Delta Relation – ITM ,ATM ,OTM और डेल्टा का संबंध

  • IN THE MONEY – ITM –  0.8   डेल्टा value
  • AT THE MONEY – ATM –  0.6  डेल्टा value
  • OUT OF MONEY – OTM – 0.3  डेल्टा value

What is Gamma  ?  गामा क्या होता है ?

  • Gamma भी एक ऑप्शन Greek है |
  • इसका ट्रेडिंग के लिए उतना उपयोग नहीं होता है , लेकिन आपको जानकारी होनी चाहिए |
  • Gamma एक tolerance की तरह होता है , जब stock /Index की कीमत 1 पॉइंट से बढ़ता है , और ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की वैल्यू 0.5 बढ़ती है जैसे हमें ऊपर देखा | और Gamma 0.02 है इसका मतलब ,ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट की वैल्यू 0.5- 0.02 = 0.48 या 0.5 + 0.02 = 0.52 हो सकती है|

What is Theta ? –  थीटा क्या होता है ?

  • थीटा से हम Option contract Expiry को बचा हुवा समय और ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट के primium ( Fair Price )पर पड़ने वाला असर को जान सकते है |
  • Theta की वैल्यू नेगेटिव होती है , Option contract को Expir के लिए बचा हुवा समय महत्वपूर्ण होता है |
  • जैसे जैसे Option contract की Expiry नजदीक आती है वैसे वैसे Option contract के प्रीमियम कम होते है |
  • थीटा का उपयोग Option Selling करने वालो को ज्यादा फायदा होता है |

 

learn more

 

 

Option Trading , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *